Monday, October 10, 2011

तेरी यादें ना होती


तु ना होती यादों में,

तो इन तनहाईयों को 

ये सिसकियाँ कौन दे जाता

घंटो खोयें से इन रातों को 

आवाज कौन देता/

तेरी तस्वीरों से इतनी 

मोहब्बत कौन करता/

मेरे सूखे रुमालों को 

इन बुंदों कि भेंट कौन देता 

इन  ख्वाहिशों  को, 

जामों से मै अकेले ना पीता

तेरी यादें ना होती 

तो इन खाली पन्नो को 

सिहाई के रंगों से कौन रंगता 

बेचैन शामों में किसकी 

आवाज का इंतजार होता/

तेरी यादों कि वफाई ना होती,
 तो यूँ गुमनाम सायर ना होता/



Pardon me for all the spelling mistakes.

4 comments:

MangoMan said...

College mein aapki is side se parichay kyun nahi karwaaya aapne?

Ankesh at Talk said...

arre apne college pe logo ko pata chalta to meri maar lete log.. dar ke mare kabhi kisi ke samne bola na :D

ameet said...

very nice!

shabdo se ek tasveer jo banayi gayi hai, kaafi manmohak hai!

very nice

Ankesh at Talk said...

@Ameet

danyabad sir :)